आञ्जन सूक्त

अथर्ववेद – Atharvaveda – 4:09 – आञ्जन सूक्त

अथर्ववेद संहिताअथ चतुर्थ काण्डम् ६५०. एहि जीवं त्रायमाणं पर्वतस्यास्यक्ष्यम्।विश्वेभिर्देवैर्दत्तं परिधिर्जीवनाय कम्॥१॥ हे अञ्जन मणे ! आप प्राणधारियों की सुरक्षा करने...

error: Content is protected !!