आत्मविद्या सूक्त

अथर्ववेद – Atharvaveda – 4:02 – आत्मविद्या सूक्त

अथर्ववेद संहिताअथ चतुर्थ काण्डम् इस सूक्त के ८ मंत्रों में स्थायी पद है "कस्मै देवाय हविषा विधेम"। इसी स्थायी पद...

error: Content is protected !!