दीर्घायुप्राप्ति सूक्त

अथर्ववेद – Atharvaveda – 3:11 – दीर्घायुप्राप्ति सूक्त

अथर्ववेद संहिताअथ तृतीय काण्डम् इस सूक्त में यज्ञीय प्रयोगों द्वारा रोग-निवारण तथा जीवनीशक्ति के संवर्द्धन का स्पष्ट उल्लेख किया गया...

अथर्ववेद-संहिता – 1:35 – दीर्घायुप्राप्ति सूक्त

अथर्ववेद-संहिता॥अथ प्रथमं काण्डम्॥ १५०. यदाबध्नन् दाक्षायणा हिरण्यं शतानीकाय सुमनस्यमानाः।तत् ते बध्नाम्यायुषे वर्चसे बलाय दीर्घायुत्वाय शतशारदाय॥१॥हे आयु की कामना करने वाले...

अथर्ववेद-संहिता – 1:30 – दीर्घायुप्राप्ति सूक्त

अथर्ववेद-संहिता॥अथ प्रथमं काण्डम्॥ १२९. विश्वे देवा वसवो रक्षतेममुतादित्या जागृत यूयमस्मिन्।मेमं सनाभिरुत वान्यनाभिर्मेमं प्रापत् पौरुषेयो वधो यः॥१॥ हे समस्त देवताओ! हे...

error: Content is protected !!